मराठी ओपन सेक्सी मराठी ओपन सेक्सी

गोरी चूत की चुदाई

गोरी चूत की चुदाई, मेने देखा कि उसके चेहरे पर उत्तेजना के भाव थे और उसका शरीर अकड़ने लगा था. जब उसकी चूत ने पानी छोड़ा तो वो इतनी ज़ोर से सिसकी, ओह रिट्ट्टा असली लंड से छुउूउड़वाने मे इतन्णना माज़ा आता है मुझे नही मालूम था. ओह अयाया मेयरययेया तो छोओओओट गया. मेरा किसी तरह का हरकत न देख उसने अपनी साड़ी के अन्दर हाथ डाल और अपनी योनि से खेलने लगी थोड़ी देर में वो अपने शरीर को ऐंठते हुए शांत हो गई।

पिरी मस्ती के साथ कमर हिला रही थी। जैसे वहाँ हम दोनों के सिवा कोई नहीं हो। कभी थोड़ा बदन उठाती, कभी मुझ पर पूरा लेट जाती, लिपट जाती। फिर उसने अपने पैर पे बैठकर दोनों हाथ मेरे सीने में रखकर इस तरह कमर उपर-नीचे करने लगी की मेडम ताली बजाने लगीं। मां-बेटियों के काम सम्बन्धों के चित्र देख कर भाभी उत्तेजित होने लगी थीं. अब काफ़ी बार वे जब प्यार से अपनी बेटियों को गले लगाती तो बहुत देर तक छोड़ती नही थी और गालों के साथ साथ कभी कभी जल्दी से उनके होंठ भी चूम लेती थी. मैने देखा कि लड़कियों को भी यह अच्छा लगने लगा था.

मैं करने लगा। उसका बदन अकड़ने लगा और उसकी बुर से लावा निकलने लगा। मेरी हथेली भर गयी। मैंने उसे अपने लण्ड पर मल लिया। फिर पिरी ने अपनी सांस को काबू करते हुये एक चादर नीचे बिछाई। और खुद चित होकर लेट गयी। गोरी चूत की चुदाई केशव ने तो कहा था की उसके पत्ते हमेशा चाल चलने लायक होते हैं...उसने गेम समझ तो ली थी..पर अभी तक सही से वो अपने दिमाग़ मे बिठा नही पाई थी..पर फिर भी केशव की बात को याद करते हुए उसने चाल चल दी ..

कॉल डाइवर्ट कैसे करें

  1. बिल्लू : बोलना क्या था भाई...सॉफ माना कर दिया...बोला, मेरे को चूतिया बना कर आजतक जीतने लोगो ने मेरा पैसा जीतना था वो जीत लिया...अब मेरे साथ खेलना है तो जीवन मेरे साथ रहेगा...जमता है तो बोलो...वरना रहने दो..''
  2. मैंने कुछ देर सोचा फिर दिमाग में आया कि कृपा कुछ गलत नहीं कह रहा और फिर मेरे मन में उसके लिंग का ख़याल भी आया। అనుపమ సెక్స్ వీడియోస్
  3. वो जुए को हमेशा से बुरा मानती थी...पर उनके जो हालात थे, उसमे पैसे अगर जुआ खेलकर भी आए, तो उसे उसमे कोई प्राब्लम नज़र नही आ रही थी.. दिन और रात ऐसे ही गुज़रते रहे और मैं कभी एसके, कभी अशोक, कभी आंटी तो कभी डॉली के बीच झूलने लगी पर किसी को भी ऐसे शक्क नही होने दिया के मैं किसी और के साथ भी हू सब यही समझते थे के मैं सिर्फ़ उसके ही साथ हू. एसके और अशोक
  4. गोरी चूत की चुदाई...काफी रात हो चुकी थी, पर हेमा और कृपा अब भी चुपचाप थे। मैं सोच रही थी कि आखिर क्या हुआ इनको.. क्योंकि मैं खुद उनके सोने का इंतजार कर रही थी। वो किसी माहिर चुदक्कड़ की तरह गाण्ड हिलाने लगी। मैं उसके दूध हिलते देखता रहा। उसके दूध के नजारे ने मुझे भुला दिया और मेरे लण्ड ने एक पिचकारी उसकी बुर के अंदर छोड़ दिया। मैं उसे अलग करता उससे पहले ही मेरे लण्ड ने दूसरी बार पिचकारी उसकी बुर में छोड़ दिया।
  5. पिरी बोली- नया कुछ सीखा, एक बुर में दो लण्ड कैसे डालते हैं… पिरी बोल रही थी- अपनी बीवी को भी कभी खिला देना। इमरान मजा आ गया तुम ना होते तो मैं कभी झेल नहीं पाती… फिर मेरे चेहरे की ओर देखते हुए- वूहह मेरी गाण्ड दुख रही है… अब पता चला चोदने में कितना मजा है और चुदवाने में कितना… केशव ने जब अपना मुँह नही खोला तो काजल ने दूसरी ब्रेस्ट को पकड़ा और उसके निप्पल से केशव के होंठों को रगड़ा...और इस बार उसने थोड़ा ज़ोर लगाया तो उसका खड़ा हुआ निप्पल उसके होंठों की दीवार भेदता हुआ अंदर दाखिल हो गया...पर उसने अपने दाँत आपस मे भींच रखे थे

सील तोड़ने वाला सेक्स वीडियो

लाजमी नहीं था कि वहीदा मेरी झोली में आ गिरे. पर उम्मीद पर दुनिया कायम है. फिर मैं उम्मीद क्यों छोड़ता!

सारिका वापिस सोफे के हत्थे पर चड़कर बैठ गयी...और अचानक उसने नोट किया की वो काजल के गले में काफ़ी अंदर तक देख पा रही है...जबकि पहले ऐसा नही था..उसकी ब्रा गायब थी... उसका लंड उसके प्री कम से और मेरे थूक से बोहोत गीला हो चुका था और वो कंटिन्यू मेरी चूत को चूस रहा और मेरी गंद मे अपनी उंगली घुसेड रहा था. बहुत मज़ा आ रहा था

गोरी चूत की चुदाई,मेने भी आज तक तीन लंड एक साथ अपने शरीर पर नही झेले थे. तीन लंड की रोमांचता ने मुझे अंदर से हिला दिया. मेने धीरे से अपनी गर्दन हां मे हिला दी.

रश्मि ने उत्तेजना मे अपनी चूत मेरी मुँह पर और दबा दी और अपनी चूत को और मेरे मुँह मे घुसा देती. मैने उसके कुल्हों को पकड़ और ज़ोर से उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया. रश्मि ने अपनी चूत को मेरे मुँह पर दबाते हुए अपना पानी छोड़ दिया. आख़िर वो थक कर मेरे बगल मे लेट गयी.

मुझे हल्का हल्का दर्द भी हो रहा था पर मज़ा भी बहुत आ रहा था, कई बार तो मेरे मुख से चीख निकलते निकलते रह गई क्योंकि अब प्रिया बहुत जोर से मेरा लण्ड चूस रही थी और उसके दांत मेरे लण्ड पर बहुत लग रहे थे।ब्लू फिल्म चूत लंड की

मर्दों को दावत देते लगते कि आओ, हमें पकड़ो, हमें सहलाओ, हमें दबाओ और हमारा रस पीयो. अगर नज़र थोड़ी और नीचे जाती तो ताज्जुब होता कि इतनी पतली और नाज़ुक कमर सीने का बोझ कैसे उठाती होगी. मैं कभी उसके पीछे होता और पागल हो गये हो क्या, मुझे यहा इतना डर लग रहा है और तुम्हे ये सब सूझ रहा है, मुझे लगता है हूमें यहा ज़्यादा देर नही रुकना चाहिए, चलो यहा से

कुछ देर गुज़री तो अचानक से पायल मेरे कमरे में आ गई . वो अभी भी उसी ड्रेस में थी सुबह वाले. उसे देखने के साथ ही एक बार फिर से मेरी आँखे चमक पड़ीं. मैने जल्दी से उस मूवी को ऑफ कर दिया. पायल मेरे पास आ गई बेड ऑर मेरे पास बैठ ती हुई बोली,

काजल के पास वैसे तो बड़ा पेयर था, पर उसे लगने लग गया की राणा के पास ज़रूर तीन पत्तों वाली कोई चीज़ आई है...उसने भी पैसे अपने मुम्मों और चूत से रगडे और उन्हे नीचे फेंक दिया..और शो माँग लिया..,गोरी चूत की चुदाई इसलिए वो हर एंगल से मज़े लेना चाहता था....उसने काजल की चूत से लंड बाहर खींच लिया...काजल को तो लगा जैसे किसी ने उसकी जान ही निकाल ली है...वो उसको वापिस अंदर लेने के लिए तड़प सी उठी...

News