एचडी ब्लू पिक्चर सेक्सी

રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર

રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર, मैं उधर से घूम कर आया और दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया। वो पेट के बल लेट कर पढ़ रही थी। उसके बुरड़ ऊपर थे, तब उसने वही टी-शर्ट और कैपरी पहन रखी थी। मैं उसकी गान्ड की दरार में उंगली घुमाने लगा और कैपरी नीचे करके उसके बुरड़ छूने लगा और काटने भी लगा। पर कई बार ख्याल अपने आप ही मन में आ जाता था लेकिन फिर इन्सेस्ट स्टोरीज पढना शुरू किया और फिर लगा की ऐसे होना टोटल ही नार्मल हे,

मैं उनकी चूत के पास मुँह लेकर गया. एक अजीब सी खुशबू आ रही थी, मैं उसमें खो गया उसे जीभ निकालकर पूरी मलाई चाटने लगा. मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि वह क्या चाहती है. मैंने उसको चुप करवाना शुरू किया. मैंने कहा- क्या तुम्हें याद है कि आज मेरा जन्मदिन है?

इतने में ही मेरी बहन ने अपनी पैन्टी को खुद ही नीचे कर लिया. उसकी चूत अब नंगी हो गई थी. मैं उसकी चूचियों को चूस रहा था. उसके निप्पलों को काट रहा था. बीच-बीच में चूचियों के निप्पलों को दो उंगलियों के बीच में लेकर दबा रहा था. રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર कुछ देर उसके होंठों को चूसने के बाद मैं झुककर बारी बारी बहन की दोनों चूचियाँ को चूसने लगा. वो आँखें बंद कर मेरा सर सहलाते हुए चूचियाँ चुसवाने का मज़ा ले रही थी।

सेक्सी गर्ल बीपी वीडियो

  1. अरे दीदि, आप इतना तो समझिये, वो बच्चा कितना अच्छा हे, जैसे ही आप को देखा की आप उसके सामने चेंज करने में अनकंफर्टबल हे तो वो खुद ब खुद ही बाहर चला गया ना.. तो प्लीज चिंता मत करिये, वो अब म्याचूर हो चुक्का हे, उसे पता हे क्या करना चाहिये और क्या नहीं..
  2. उसके पास बोलने के लिए शब्द ही नहीं थे.. लेकिन तभी जय - अरे घबराओ नहीं.. मैंने कुछ नहीं देखा.. तुम दोनों कपड़े पहन कर बाहर आ जाओ और जो देखा वो किसी को नहीं बताऊँगा.. तुम लोग ज़वान हो.. ये सब तो हो ही जाता है.. ये सब छोटी-छोटी बातें हैं। आधार कार्ड डेट ऑफ़ बर्थ चेंज
  3. शाम को मेरी दीदी जब वापिस आई तो हम दोनों थोड़ी सी बातें की और वो कहने लगी कि भैया आज मैं थकी हुई हूँ तो क्या आप घर की सफाई कर डोज? अब वो मेरे लंड को बुरी तरह चूसने लगी। मैं पूरी तरह मदहोश हो गया था और मेरे मुँह से सिसकियाँ निकल रही थीं- आह.. आह आह…
  4. રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર...मैंने तिरछी नज़र से जय को देखा तो वो अन्दर से हिल चुका था और सीधे तो नहीं.. लेकिन तिरछी नज़रों से कांता के मदमस्त जिस्म को देख रहा था। तब तक कांता मेरे पास आ गई.. मैंने एक कप लिया और बोला- जय को भी दो.. .छोटी तू समझ नहीं रही, वो ऐसे तुझे देख रहा हे.. माँ ने फिर एक बार कह.. तो चाची ने आराम से माँ के कन्धो पे अपने दोनों हाथ रक्खे और फिर माँ की आँखों में आँखें दाल के कहा.
  5. सोनम से अब सब्र नहीं हो रहा था तो उसने दरवाजे को धकेला तो कुण्डी लगी होने के कारण दरवाजा नहीं खुला तो उसने गुस्से में जोर से दरवाजे को धक्का दिया तो दरवाजा एकदम से खुल गया और सोनम एकदम से कमरे में आकर गिरी। इस बात पर रिया हँस दी और रति ने शरमा कर अपना सिर रमेश के सीने में छुपा लिया. रमेश रति को लेकर रूम में चला गया और रिया मन ही मन में सोचने लगी- सचमुच, आज भी मॉम और डैड में कितना प्यार है!

फ्री फायर कैसे डाउनलोड होता है

रमेश- मुझे चुदाई के बाद तुम जैसी रंडियों की ब्रा और पेंटी कलेक्ट करने की आदत है. एक बार मेरे सामने अगर किसी औरत की ब्रा और पैंटी उतर जाती है तो फिर उस पर मेरा अधिकार हो जाता है.

दीदी ऐसी गंदी बाते करती रही और चुड़वति रही अंगार मैने अपना उंगली उनके गांद से नही निकाला. दीदी की बाते मुझे बहुत गरम कर रही थी. मेरा लॉडा कुछ ही देर में पानी चूड़ने को तैयार हो गया. मैंने कहा बस इतनी सी बात थी और फिर मैं क्यों हँसुंगा इस बात पे। आपको जब कभी भी डर लगता है तो मेरे रूम में आके सोती हैं। कौन सी यह कोई नई बात है

રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર,कुछ ही देर ऐसे ही लंबी चुम्मी की होगी कि जस्सी बोल उठी- बस छोड़ो यार.. अभी नहीं रात में.. ओके मेरे प्यारे रेशु!

रोहन झड़ने के बाद सोनम के ऊपर ही लेट गया और सोनम ने भी उसको अपनी बाहों और टांगों के पाश में बाँध लिया, दोनों जैसे एक दूसरे में समा जाना चाहते थे।

ससुराल छोड़ कर आने के बाद माधुरी ने पढ़ाई की और किसी स्कूल में नौकरी करने लगी. किसी कारण से वो स्कूल बंद हो गया तो उसने अपना प्ले वे स्कूल खोल लिया लेकिन वो कुछ ज्यादा अच्छा नहीं चल रहा था.आधार कार्ड गुम हो गया कैसे निकाले

उसके पास बोलने के लिए शब्द ही नहीं थे.. लेकिन तभी जय - अरे घबराओ नहीं.. मैंने कुछ नहीं देखा.. तुम दोनों कपड़े पहन कर बाहर आ जाओ और जो देखा वो किसी को नहीं बताऊँगा.. तुम लोग ज़वान हो.. ये सब तो हो ही जाता है.. ये सब छोटी-छोटी बातें हैं। में ये समझ गया और कन्फर्म भी हो गया की मेरे बात करते वक़्त चाची सुन रही थी और वो झाड़ू लगाते वक़्त क्लीवेज भी बस मुझे थोड़ा सा एंटरटेन करने के लिए कर रही थी.

उसने बोलना शुरू किया- दीदी मैं स्कूल के दिनों से ही आपको पसंद करने लगा था. आपके पीछे बैठ कर आपको देखता रहता था. आपके सेक्सी जिस्म के बारे में सोच कर न जाने कितनी बार मैंने … (मुठ मारी हुई है)

बहोत सारे ख्याल आने लगे की कहीं चाची का किसी के साथ चक्कर तो नही..पर फिर सोचा नहीं ऐसा तो चाची नहीं कर सकती.,રાજા હિન્દુસ્તાની પીચર मैन फिर उसे साफ़ कर ही रहा था की एक फ्रेंड का कॉल आ गया और उसे एक मेल फॉरवर्ड करने बैठ गया. और फ्रेंड को मेल भेजने के लिए खोला तो माँ का रिप्लाई भी आया था

News